प्रमुख समाचार
ट्रेन तो ठीक अब लंबी दूरी की बसों में जरूरी हो सकता है टॉयलेट
नई दिल्ली,26/दिसंबर/2017(ITNN)>>> आने वाले समय में लंबी दूरी की बसों में टॉयलेट का इंतजाम जरूरी हो सकता है। संसदीय समिति ने सरकार से गंभीरतापूर्वक विचार करने को कहा है। समिति ने विभिन्न प्रकार के वाहनों के लिए अलग लेन की जरूरत भी बताई है। मोटर संशोधन विधेयक की समीक्षा के लिए राज्यसभा सांसद विनय पी. सहस्रबुद्धे की अध्यक्षता वाली 24 सदस्यीय प्रवर समिति ने कुछ रोज पहले ही सदन में अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की है। 

समिति ने कुछ ऐसे सुझाव दिए हैं जिन्हें यदि अमल में लाया जा सका तो देश में सड़क यातायात की स्थिति में सुखद सुधार हो सकता है। उदाहरण के लिए समिति ने स्वच्छ भारत अभियान का जिक्र किए बगैर सरकार से लंबी दूरी की सभी बसों में अनिवार्य रूप से टॉयलेट की व्यवस्था करने को कहा है। समिति का कहना है कि निर्माण तकनीक उपलब्ध होने के बावजूद भारत में बहुत कम बसों में टॉयलेट की व्यवस्था है। इसलिए सरकार को इस दिशा में तुरंत कदम उठाना चाहिए। 

इसी तरह समिति ने विभिन्न प्रकार के वाहनों के लिए लेन सुनिश्चित करने और इस बाबत नियम बनाने को कहा है। समिति का एक सुझाव यह भी है कि नियम बनाते समय खतरनाक व हानिकारक रसायनों एवं सामानों की ढुलाई के बारे में भी उपयुक्त प्रावधान किए जाने चाहिए। समिति जरूरत से ज्यादा लंबे-चौड़े और ऊंचे (ओवरसाइज) वाहनों के ड्राइवरों के लिए विशिष्ट प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाए जाने का पक्ष लिया है। समिति ने कुछ अन्य मामलों में भी स्पष्ट नियम बनाने को कहा हैं।

इन मामलों में बन सकते हैं नियम

-वाहन डीलरों के कार्यव्यवहार के बारे में।

-वाहनों में विभिन्न प्रकार के तामझाम फिट कराने के बारे में।

-दुपहियों पर बैठने वाले चार वर्ष से कम उम्र के बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के बारे में।

-शराब की जांच करने वाले ब्रेथ अल्कोहल एनलाइजर के मानकों के बारे में।

-बाइक या कार रेसिंग तथा स्टंट दिखाने वालों के बारे में।

-ओवरलोडिंग की सही जांच के लिए एक्सल लोड संबंधी तकनीकी पहलुओं की जांच के बारे में।