प्रमुख समाचार
आने वाले दिनों में सस्ते हो सकते हैं रेफ्रिजरेटर,वॉशिंग मशीन और बहुत कुछ
नई दिल्ली,01/नवम्बर/2017(ITNN)>>> माल और सेवा कर (जीएसटी) के तहत सबसे ज्यादा 28 फीसद के स्लैब के आवेदन की समीक्षा की जा सकती है। सरकार लगातार उपयोग के सामानों पर कम दर को लागू करने पर विचार कर सकती है। नीति निर्माताओं ने इस कदम का समर्थन किया है। इस तरह से कई वस्तुओं की कीमतों में कमी आएगी। इस प्रकार मांग को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी। औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग (डीआईपीपी) ने उद्योग को पुनर्जीवित करने के लिए इस तरह की बदलाव की मांग की है। 

खासकर छोटे व्यवसायों में रोजगार उत्पन्न करने के इंजन के रूप में यह जरूरी है। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा कि 28 फीसद स्लैब पर पुनर्विचार करने की जरूरत है। उस ब्रैकेट में रखे गए कुछ सामान एमएसएमई (सूक्ष्म, छोटे और मध्यम उद्यमों) द्वारा निर्मित होते हैं और वे कुछ दबाव महसूस कर रहे हैं। इस स्लैब में वॉशिंग मशीन, रेफ्रिजरेटर, इलेक्ट्रिकल फिटिंग, सीमेंट, घड़ियां, ऑटोमोबाइल, तंबाकू उत्पाद, पोषण पेय, ऑटो पार्ट्स, प्लास्टिक फर्नीचर और प्लाईवुड आदि शामिल हैं।

इस कदम को जीएसटी परिषद द्वारा अनुमोदित करना होगा। नए टैक्स के लिए सर्वोच्च निर्णय लेने वाला निकाय की 9-10 नवंबर को गुवाहाटी में बैठक होगी, जिसमें इस बात पर चर्चा की जाएगी। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि आने वाले दिनों में कई वस्तुओं की कीमत कम हो सकती है। गौरतलब है कि देश में माल एवं सेवा कर जीएसटी एक जुलाई से लागू हुआ। इसमें दो दर्जन से अधिक करों को समाहित किया गया है। सभी वस्तुओं और सेवाओं को चार स्तरीय जीएसटी दर 5, 12, 18 और 28 प्रतिशत की श्रेणी में रखा गया है।