प्रमुख समाचार
हदिया ने कहा- मुझे आजादी चाहिए
नई दिल्ली,27/नवम्बर/2017(ITNN)>>> केरल लव जिहाद मामले में मुस्लिम शख्स से निकाह करने वाली हदिया सोमवार दोपहर को सुप्रीम कोर्ट पहुंची जहां उसने अपने बयान में कहा कि उसे उसकी आजादी चाहिए। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की पीठ के सामने हदिया ने ये बात कही। इस मामले में मंगलवार को भी सुनवाई जारी रहेगी। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने जब हदिया से पूछा कि वो अपनी पढ़ाई राज्य के खर्चे पर जारी रखना चाहती हैं तो उसने कहा कि हां,मगर जब मेरे पति मेरा खर्चा वहन कर सकते हैं तो मैं राज्य के खर्चे पर पढ़ाई क्यों करूं?

सुप्रीम कोर्ट ने आदेश देते हुए कहा है कि हदिया अपनी पढ़ाई करने के लिए कॉलेज जाएगी और वो कॉलेज हदिया को हॉस्टल की सुविधा मुहैया कराएगा। अब इस मामले की अगली सुनवाई जनवरी के तीसरे हफ्ते में होगी। इससे पहले हदिया के पति शैफी जहान की ओर से पक्ष रखते हुए वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि उन्हें इस बात का दुख है कि हम हदिया की बात नहीं सुन रहे हैं बल्कि मीडिया में चलाई जा रही खबरों की बात मान रहे हैं। 

उन्होंने आगे कहा कि जब हदिया खुद मौजूद है तो कोर्ट को उसकी बात सुननी चाहिए न कि एनआईए की। इस बीच एनआईए ने सुप्रीम कोर्ट में 100 पन्नों की रिपोर्ट सौंप दी है। हदिया इसके लिए रविवार को ही कच्चि से दिल्ली पहुंची थी। अभियोजन पक्ष का कहना है कि इस्लामिक स्टेट (आईएस) के समर्थक हिंदू लड़कियों को मुसलमान बनाने के लिए लव जिहाद का सहारा ले रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) इस मामले की जांच कर रही है। 

हदिया अदालत को बताएगी कि उसने स्वेच्छा से धर्म परिवर्तन किया है या उसे इसके लिए बाध्य किया गया है? निचली अदालत ने हदिया का बयान लेने का उसके पति का अनुरोध ठुकरा दिया था। शनिवार को नई दिल्ली के लिए रवाना होने से पहले युवती ने बताया था कि उसने स्वेच्छा से धर्म परिवर्तन किया है। एनआईए ने पिछले 28 महीने के दौरान केरल में अंतरधार्मिक विवाह करने वाले दर्जनों लोगों को हिरासत में लेकर उससे पूछताछ की है।