प्रमुख समाचार
हाफिज सईद के चैरिटी संगठनों पर पाक सरकार करेगी कब्जा
वाशिंगटन,01/जनवरी/2018(ITNN)>>> पाकिस्तान सरकार आतंकी सरगना हाफिज सईद के चलाए जा रहे सामाजिक सेवा के संगठनों और संपत्तियों को कब्जे में लेने पर गंभीरता से विचार कर रही है। सईद पर 2008 में मुंबई आतंकी हमले का मास्टरमाइंड होने का आरोप है। उसे अमेरिका ने भी अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित कर रखा है। माना जा रहा है कि पाकिस्तान सरकार यह कार्रवाई अमेरिका के दबाव में करेगी। अमेरिकी सरकार के अधिकारियों के हवाले से मिली सूचना के अनुसार पाकिस्तानी सरकार ने 19 दिसंबर को केंद्र और राज्य सरकारों से जुड़े अधिकारियों को इस बाबत गोपनीय पत्र लिखा है। 

तीन उच्च अधिकारियों की इस बाबत हुई बैठक में शामिल रहे एक अधिकारी ने केंद्र सरकार के इस तरह के निर्देश की पुष्टि की है। सीक्रेट लिखे लिफाफे में 19 दिसंबर को भेजे पत्र में वित्त मंत्रालय ने सरकारी एजेंसियों और पांच प्रांतों की सरकारों को सईद के संगठनों-जमात-उद-दावा और सलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन पर कब्जे की कार्ययोजना तैयार करने का निर्देश दिया है। अमेरिका ने इन दोनों ही संगठनों के आतंकी जमात लश्कर-ए-तैयबा का अंग होने की बात कही है।

अमेरिका भी मानता है कि मुंबई हमले में हाफिज सईद का हाथ था। उक्त हमले में कई विदेशियों समेत 166 लोग मारे गए थे। जबकि सईद मुंबई हमले में हाथ होने से इन्कार करता है और पाकिस्तानी अदालत उसे दोषी ठहराने में सुबूतों का अभाव होने की बात कहती है। पाकिस्तानी सरकार ने 19 दिसंबर का यह पत्र फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) के पास भी भेजा है। एफएटीएफ वह अंतरराष्ट्रीय संस्था है जो अवैध रूप से होने वाले धन के लेन-देन और आतंकियों को मिलने वाले धन पर नजर रखती है। 

इस संस्था ने पाकिस्तान को चेतावनी दे रखी है कि उसने आतंकियों को मिलने वाले धन के स्त्रोत बंद नहीं किए तो उसे इसके दुष्परिणाम भुगतने होंगे। हाफिज सईद के संगठनों पर कार्रवाई के सवाल पर पाकिस्तान के गृह मंत्री एहसन इकबाल ने कहा,सभी आतंकी संगठनों के आर्थिक स्त्रोतों को बंद किया जाएगा। यह हमारी नीति है। इकबाल ने उस उच्च स्तरीय बैठक की सह अध्यक्षता की थी जिसमें हाफिज सईद के संगठनों के खिलाफ कार्रवाई का निर्णय लिया गया था।