प्रमुख समाचार
लेबनान में जारी तनातनी के बीच पीएम साद हरीरी पहुंचे फ्रांस
पेरिस,19/नवम्बर/2017(ITNN)>>> लेबनान के प्रधानमंत्री साद हरीरी सऊदी अरब से शनिवार को फ्रांस पहुंच गए। अपने जीवन को खतरा बताते हुए हरीरी सऊदी अरब पहुंचे थे और वहां उन्होंने अपने पद से इस्तीफे की घोषणा की थी। इस मौके पर लेबनान के एक टीवी चैनल LBCI ने हरीरी और उनकी पत्नी को पेरिस में दिखाया। इन दोनों को पेरिस में पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था के बीच रखा गया है। वे फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के आमंत्रण पर पेरिस गए हैं। हरीरी फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों से मिलेंगे। बेरुत लौटने से पहले वह अन्य अरब देशों का भी दौरा कर सकते हैं। 

रियाद में फ्रांस के विदेश मंत्री जीन-येव्‍स ले ड्रायन से मुलाकात के बाद हरीरी फ्रांस पहुंचे हैं। फ्रांस,इरान और सऊदी अरब के बीच तनाव को कम करने की कोशिश कर रहा है। जर्मन विदेश मंत्री सिगमर गैब्रिएल द्वारा दिए गए बयान के अनुसार हरीरी को जबरन रियाद में रखा गया था। लेकिन पेरिस के लिए रवाना होने से पहले हरीरी ने ट्वीट कर ग्रैब्रिएल के बयान को गलत बताया। रियाद से टेलीविजन पर प्रसारित हुए एक संबोधन में हरीरी ने कहा कि उन्हें अपनी हत्या की साजिश रचे जाने का अंदेशा है। उन्होंने साथ ही ईरान पर क्षेत्र में दखल देने का आरोप लगाया,जिसके कारण तबाही और अराजकता फैल रही है।

हरीरी ने कहा, इरान क्षेत्र में और सीरिया व इराक दोनों के फैसलों को नियंत्रित करता है। मैं ईरान और उसके समर्थकों को यह बताना चाहता हूं कि वह अरब देशों के आंतरिक मामलों में दखल देने की कोशिश में सफल नहीं हो पाएगा। वहीं इरान ने इन आरोपों को खारिज करते हुए अमेरिका और सऊदी अरब पर इस्तीफे की योजना बनाने का आरोप लगाया। हरीरी ने लेबनान में इरान समर्थित शिया चरमपंथी समूह हिजबुल्ला का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि पिछले दशकों में दुर्भाग्य से हिजबुल्ला लेबनान में हथियारों के बल पर अपना प्रभाव जमाने में सफल रहा है।

हरीरी के फ्रांस जाने के फैसले का लेबनान के राष्‍ट्रपति माइकल आउन ने स्‍वागत किया है जिन्‍होंने हरीरी के इस्‍तीफे को स्‍वीकार करने से मना कर दिया था। उन्‍होंने ट्वीट कर बताया,हम आशा करते हैं कि यह संकट खत्‍म हो जाएगा और जल्‍द ही समाधान आ जाएगा। उन्‍होंने आगे कहा,यदि फ्रांस में हरीरी कुछ बोलते हैं तो मैं उसे सकारात्‍मक तरीके से लूंगा लेकिन उनका इस्‍तीफा लेबनान में दिया जाना आवश्‍यक है। लेबनान पर जारी तनाव को कम करने में फ्रांस भी मध्स्थता कर रहा है। लेबनान में सुन्‍नी हरीरी गुट और शिया हिज्‍बुल्‍ला के बीच रियाद और तेहरान के बीच लंबे समय से संघर्ष जारी है।