प्रमुख समाचार
22 महीने बाद मां और पत्नी से मिले कुलभूषण,30 मिनट चली मुलाकात
इस्लामाबाद,25/दिसंबर/2017(ITNN)>>> आखिरकार 22 महीने बाद पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव अपनी मां और पत्नी से मिले। 30 मिनट तक चली इस मुलाकात में पहले दो मां और पत्नी ने कुलभूषण जाधव को जी भर के देखा और फिर कुछ बातें हुईं। इस दौरान पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त कुलभूषण की मां और पत्नी के साथ रहे। मुलाकात के बाद पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय की तरफ से इस मुलाकात की तस्वीरें भी शेयर की गईं हैं। यह मुलाकात पाक विदेश मंत्रालय के दफ्तर में हुई। 

इसके बाद कुलभूषण की मां और पत्नी विदे मंत्रालय के बाहर आ गईं और वो आज ही भारत भी लौट आएंगी। इससे पहले सोमवार दोपहर को कुलभूषण से से मिलने के लिए इस्लामाबाद पहुंचे मां और पत्नी पहले भारतीय उच्चायोग लाए गए। इस मुलाकात के चलते सुरक्षा की दृष्टि से पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की बिल्डिंग पर शार्प शूटर्स के साथ ही स्नाइपर्स तैनात किए गए हैं। वहीं इस बीच पाकिस्तानी मीडिया के हवाले से ये खबर आ रही है कि कुलभूषण को काउंसलर एक्सेस नहीं दिया गया है। 

जाधव जासूसी के आरोप में पाकिस्तान की जेल में बंद हैं और उन्हें सैन्य कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है। इससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने एक पाक के एक निजी न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में ये बात कही। इससे पहले 6 से अधिक बार पाकिस्तान भारत की ये मांग ठुकरा चुका है। हालांकि भारत पाकिस्तान की राजनयिक मदद देने के दावे को खारिज कर चुका है। इससे पहले मीडिया रिपोर्ट में ये बात सामने आई थी कि पाकिस्तान ने भारत से जाधव के परिवार की मुलाकात को लेकर जल्दी अपना रुख स्पष्ट करने को कहा है,ताकि वो जाधव की परिवार के साथ मुलाकात तय कर सके। 

पाकिस्तान ने मानवीयता दिखाते हुए बीस दिसंबर को कूलभूषण जाधव की पत्नी और मां को वीजा जारी किया था। 47 साल के जाधव को पाकिस्तान की सैन्य कोर्ट ने आतंक और खुफिया जानकारी जुटाने के आरोप में फांसी की सजा सुनाई है। इसी फैसले के खिलाफ मई में भारत ICJ गया था। जिसके बाद अंतरर्राष्ट्रीय कोर्ट ऑफ जस्टिस ने जाधव की फांसी पर रोक लगा दी। 

लगातार कोशिशों के बाद भी पाकिस्तान भारत को जाधव के मामले में काउंसलर एक्सेस नहीं दे रहा है। इसके पीछे पाकिस्तान ये तर्क दे रहा है कि जासूसी के मामले में इस तरह की छूट नहीं दी जा सकती। हालांकि भारत का रुख इस मामले में पहले से ही साफ है। भारत के मुताबिक जाधव को ईरान से अगवा किया गया था। जहां वो नौसेना से रिटायर होने के बाद बिजनेस के सिलसिले में गया था।