प्रदेश विशेष
यूपी में मुहर्रम जुलूसों के रूट पर बवाल,वाहन फूंके,एसपी समेत कई पुलिसकर्मी घायल
लखनऊ,02/अक्टूबर/2017(ITNN)>>> यूपी में मुहर्रम पर कई जगह बवाल हुए हैं। निर्धारित मार्गों से हटकर ताजिया निकाले जाने पर राज्य में कई स्थानों पर विवाद हुए जिसके चलते पथराव व अगजनी की घटनाएं भी हुईं। इन सब में कानपुर में हालात ज्यादा खराब हो गए। इस दौरान जमकर फायरिंग,पथराव,आगजनी हुई और पेट्रोल बम चले। उपद्रवियों ने पुलिस चौकी में तोड़फोड़ की। इसमें तीन पुलिसकर्मियों समेत कई लोग घायल हो गए। 

कानपुर में मुहर्रम का जुलूस निकालने के दौरान रूट बदलने और रास्ता रोकने पर जूही का परमपुरवा इलाका जल उठा तो रावतपुर गांव में जमकर लाठी डंडे और पत्थर चले। जूही में उपद्रवियों ने चौकी में जमकर तोड़फोड़ की। थाने की जीप में तोड़फोड़ की तो एक वैन में आग लगा दी। एक पुलिसकर्मी की बाइक समेत कई वाहनों को फूंक डाला तो एक टेंट दुकान को भी आग के हवाले कर दिया। 

वहीं रावतपुर में सुबह के हंगामे के बाद दोनों पक्षों में जमकर देशी बम और गोलियां चलीं। उपद्रवियों को काबू करने के लिए पुलिस ने जूही में चिली बम,आंसू गैस,रबर बुलेट चलाए। एडीजी अविनाश ने चंद्र ने बताया कि जुलूस निकालने को लेकर दो पक्षों के बीच विवाद होना सामने आया है। बरेली में जोगी नवादा में प्रस्तावित रूट से ताजिया जुलूस आगे बढ़ाने पर बवाल हो गया। 

इससे वहां रहने वाले दूसरे पक्ष के लोग नई परंपरा डालने का आरोप लगाते हुए विरोध में सड़कों पर उतर आए। थोड़ी देर में छतों से जुलूस पर पथराव हो गया। इसमें छह से अधिक लोग घायल हो गए। इसके बाद दोनों पक्षों के लोग आमने-सामने आ गए। पीलीभीत में इस साल ताजियों की संख्या बढ़ाने और गलत रूट से जुलूस निकालने का आरोप लगाते हुए दूसरे पक्ष के लोग विरोध में उतर आए। देखते ही देखते दोनों ओर से सैंकड़ों लोग सड़कों पर आ गए। मारपीट और पत्थरबाजी शुरू हो गई। 

इसमें करीब 12 लोग चोटिल हो गए। बाद में भारी सुरक्षा के बीच जुलूस निकाला गया। गोंडा के मसकनवां में मुहर्रम के जुलूस के दौरान राड फोड़ने के बाद विवाद बढ़ गया। बताया जाता है राड फोड़ने से उसका शीशा जाकर एक महिला को लग गया,जिसके बाद दोनों पक्ष आमने सामने आ गए। अंबेडकरनगर के आलापुर थाना क्षेत्र के न्योरी स्थित बाजार में ताजिया का जुलूस और मूर्ति विसर्जन एक ही रास्ते से निकलते समय दो संप्रदायों में जमकर बवाल हुआ।

मामले में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने जहां तेज आवाज में डीजे बजाते हुए अबीर गुलाल फेंके जाने का आरोप लगाया वहीं मूर्ति विसर्जन के लिए जाने वाले लोगों ने मूर्ति एवं वाहनों पर पत्थर फेंकने का आरोप लगाया। सम्भल में ताजिया और मेहंदी के जुलूस को लेकर रविवार को सम्भल में बवाल हो गया। 10 लोग घायल हो गए। सिसौटा में मेहंदी का जुलूस निकाल रहे लोगों पर पथराव किया गया जबकि परियावली में बिना ताजिया खोले जुलूस निकालने का दूसरे समुदाय के लोगों ने विरोध कर दिया। इस पर गुस्साए लोगों ने जाम लगा दिया। बाद में पुलिस ने लाठियां फटकार कर लोगों को खदेड़ा और जाम खुलवाया।