प्रदेश विशेष
सीमा पर 360 मीटर ऊंचा बिना ध्वज का पोल,आहत हो रहे सैलानी
अमृतसर,26/दिसंबर/2017(ITNN)>>> भारत-पाकिस्तान सीमा पर भारतीय क्षेत्र में तिरंगे के बिना खड़ा 360 फीट ऊंचा पोल उस समय सैलानियों के दिलों में शूल की तरह चुभ जाता है,जब इसके ठीक सामने पाकिस्तान की तरफ उनके 360 फीट ऊंचे ध्वज को लहराते हुए वे देखते हैं। यह देख देश के विभिन्न हिस्सों से यहां पहुंचे पर्यटकों की भावनाएं आहत होती हैं और अटारी बॉर्डर पर खड़े ऊंचे पोल को देखकर खुद को हीन भावनाओं से घिरा पाते हैं।

रोजाना शाम को रिट्रीट सेरेमनी के दौरान बीएसएफ के जवान सैलानियों में जोश भरते हैं और माहौल को देशभक्ति से भर देते हैं। हिंदुस्तान जिंदाबाद और भारत-माता की जय के नारे गूंजते रहते हैं मगर सीमा पर बिना राष्ट्रीय ध्वज के खड़ा देश का सबसे ऊंचा पोल कहीं न कहीं सैलानियों के दिलों पर चोट कर जाता है। मार्च में देश की अटारी सीमा पर लहराए जाने वाला सबसे ऊंचा तिरंगा दो बार क्षतिग्रस्त हो गया। 

राष्ट्रीय ध्वज को बदला गया और अगले माह में फिर दो से तीन बार क्षतिग्रस्त हो गया। इसका कारण तिरंगे का साइज और ऊंचाई सामने आई। राष्ट्रीय ध्वज कॉटन का है और 360 फीट ऊंचाई पर हवा का दबाव इतना बढ़ जाता है कि करीब 100 किलो वजन का तिरंगा क्षतिग्रस्त हो जाता है। तब सरकार ने इसे हटाने का फैसला करते हुए सिर्फ विशेष दिनों जैसे 15 अगस्त और 26 जनवरी को ही लहराने की योजना बनाई।

मार्च, 2017 में किया था स्थापित
पिछली अकाली-भाजपा सरकार के कार्यकाल के दौरान पंजाब टूरिज्म विभाग ने देश के सबसे ऊंचे तिरंगे को सीमा पर फहराने की योजना बनाई थी। करीब 3.5 करोड़ रुपए की लागत से पांच मार्च,2017 को राज्य के तत्कालीन स्थानीय निकाय मंत्री अनिल जोशी ने फहराया था। डिप्टी कमिश्नर अमृतसर कमलदीप सिह संघा का कहना है कि कांट्रेक्टर कंपनी को बदल दिया गया है। अब नई कंपनी के साथ इसकी मेंटेनेंस का करार किया गया है जो अच्छे कपड़े में राष्ट्रीय ध्वज मुहैया करवाएगी। इस पर काम भी शुरूहो चुका है। 26 जनवरी से पूर्व ही अटारी सीमा पर फिर से देश का सबसे ऊंचा राष्ट्रीय ध्वज लहराने लगेगा।