प्रदेश विशेष
पीएम मोदी करेंगे 112 फुट ऊंचे शिव के चेहरे वाली प्रतिमा का अनावरण
कोयंबटूर,24/फरवरी/2017(ITNN)>>>>>>> पीएम नरेंद्र मोदी शुक्रवार को महाशिवरात्रि के पावन मौके पर ईशा योग केंद्र में भगवान शिव के 112 फुट ऊंचे चेहरे का अनावरण करेंगे। ईशा फाउंडेशन की एक विज्ञप्ति के मुताबिक धरती के इस सबसे विशाल चेहरे की प्रतिष्ठा मानवता को आदियोगी शिव के अनुपम योगदान के सम्मान में की गई है। भगवान शिव के इस विशाल चेहरे को सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने डिजाइन किया है। पत्थर की जगह स्टील के टुकड़े जोड़कर देसी तकनीक से इसे तैयार किया गया है।

नंदी की प्रतिमा को भी तिल के बीज,हल्दी,भस्म और रेत-मिट्टी भरकर बनाया गया है। कोयंबटूर में महाशिवरात्रि महोत्सव शाम 6 बजे शुरू होगा। पीएम मोदी दुनिया भर में महायोग यज्ञ की शुरुआत करेंगे। इस कार्यक्रम का मकसद आने वाले साल में 10 लाख लोग योग के एक सरल तरीके को कम से कम 100 लोगों को सिखाएं। अगली महाशिवरात्रि तक कम से कम 10 करोड़ लोगों तक इसे पहुंचाएं।

5 करोड़ लोग देखेंगे लाइव प्रसारण
इस कार्यक्रम का प्रसारण 23 सैटेलाइट टीवी चैनल्स के जरिये करीब 5 करोड़ लोग देखेंगे। इस कार्यक्रम का प्रसारण 7 अलग-अलग भाषाओं में किया जाएगा। महाशिवरात्रि महोत्‍सव शाम 6 बजे शुरू होकर अगली सुबह 6 बजे तक चलेगा। रात भर चलने वाले इस महोत्सव में सद्गुरु के साथ सत्‍संग का प्रोग्राम भी रहेगा।

सुरक्षा के कड़े इंतजाम
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कोयंबतूर यात्रा के मद्देनजर शहर और इसके आसपास पांच-स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गई है। तमिलनाडु-केरल की सीमा पर भी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। मानवाधिकार संगठनों, विभिन्न राजनीतिक पार्टियों,किसानों एवं जनजातीय संस्थाओं की ओर से विरोध प्रदर्शन की योजनाओं के मद्देनजर कड़ी सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं।

अतिक्रमित जमीन पर प्रतिमा स्थापना का आरोप
इन संस्थाओं का आरोप है कि आदियोगी की आवक्ष प्रतिमा अतिक्रमित जमीन पर स्थापित की गई है और मोदी की यात्रा से इस जमीन का नियमितीकरण हो जाएगा। चेन्नई में माकपा और भाकपा ने प्रतिमा स्थापित करने में कथित तौर पर हुए कई कानूनों के उल्लंघन का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री को कार्यक्रम स्थल पर नहीं जाना चाहिए। मोदी स्थानीय सुलूर हवाई अड्डे पर शाम 5:30 में पहुंचेंगे और वहां से हेलीकॉप्टर के जरिये कार्यक्रम स्थल के लिए रवाना होंगे।