प्रदेश विशेष
महिला प्रहरी बंद आंखों से हथियार को तोड़कर जोड़ने में माहिर
भोपाल,03/अक्टूबर/2017(ITNN)>>> जेलों की सुरक्षा को लेकर सरकार ने प्रहरियों को बीएसएफ और एसएएफ की आरएपीटीसी इंदौर से विशेष प्रशिक्षण दिलाया है। इसका पहला बैच बुधवार को दीक्षांत परेड के बाद प्रदेश की जेलों में ज्वॉइन करेगा। सोमवार को परेड की फुल ड्रेस रिहर्सल में महिला प्रहरियों के शौर्य प्रदर्शन के दौरान जब उन्होंने अपनी आंखों पर पट्टी बांध हथियार को तोड़कर मात्र एक मिनट में उसे जोड़कर दिखाया तो अधिकारी अचंभित रह गए। नव जेल प्रहरियों की फुल ड्रेस रिहर्सल मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में सुबह दस बजे शुरू हुई।

जिसमें परेड की सलामी के लिए खुली जीप में डमी मुख्यमंत्री के रूप में राजगढ़ जेल के जेलर विकास सिंह थे तो जेल महानिदेशक संजय चौधरी उनके साथ खड़े थे। परेड के साथ ही करीब 500 प्रहरियों ने मार्च पास्ट किया और महिला प्रहरियों की एक टुकड़ी ने साइलेंट ड्रिल का प्रदर्शन किया। महिला प्रहरियों की टुकड़ी ने कंधे पर बंदूक रखकर एकसाथ गोलियां दागी तो रिहर्सल परेड देखने पहुंचे लोगों ने उनका तालियां बजाकर हौंसला बढ़ाया।

शौर्य प्रदर्शन में 48 महिला प्रहरियों का दल था,जिन्होंने इनसास रायफल हथियार का प्रदर्शन किया। 14 महिला प्रहरियों ने आंख पर पट्टी बांधकर हथियार तोड़कर जोड़ने की कला दिखाई। इसके अलावा महिला प्रहरियों के एक समूह ने ट्यूब लाइट को हाथ से तोड़ने और ट्यूब लाइट जैसी कांच की बाधा को बाइक चलाते हुए तोड़कर दिखाया। गौरतलब है कि दीक्षांत परेड की रिहर्सल मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में पिछले कई दिनों से चल रही थी।