प्रदेश विशेष
मनी लांड्रिंग मामले में छठी बार भी ED के सामने पेश नहीं हुई राबड़ी
नई दिल्ली,08/नवम्बर/2017(ITNN)>>> बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री छठी बार भी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के सामने पेश नहीं हुई। उन्हें मनी लांड्रिंग मामले की चल रही जांच के सिलसिले में पूछताछ के लिए बुलाया गया था। यह जानकारी मंगलवार को अधिकारियों ने दी। ईडी ने राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की पत्नी को पिछले महीने मंगलवार को मामले के जांच अधिकारी के सामने पेश होने के लिए कहा था। यह अभी तक साफ नहीं है कि केंद्रीय जांच एजेंसी ने उन्हें हाजिर होने के लिए नई तारीख दी है या नहीं।

ईडी उनके खिलाफ अदालत जाने जैसे कदम उठाएगी या नहीं यह भी स्पष्ट नहीं है। यह भी संभव है कि एजेंसी बिहार की राजधानी पटना में स्थित अपने कार्यालय में उनका बयान दर्ज कर सकती है। ईडी ने सीबीआइ की एफआइआर के आधार पर लालू,उनके परिवार के सदस्यों एवं अन्य के खिलाफ मनी लांड्रिंग रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया है। सीबीआइ के एफआइआर में आरोप लगाया गया है कि लालू प्रसाद ने रेल मंत्री रहते हुए 2004 में आइआरसीटीसी के दो होटलों का ठेका एक निजी कंपनी को सौंपा था।

इसके बदले उन्होंने बेनामी कंपनी के माध्यम से पटना में प्लाट लिया था। यह बेनामी कंपनी पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रेमचंद गुप्ता की पत्नी सरला गुप्ता की थी। पिछले महीने राबड़ी के बेटे और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव भी ईडी के सामने पेश नहीं हुए थे। अब उन्हें 13 नवंबर को बुलाया गया है। तेजस्वी एक बार हाजिर हो चुके हैं और ईडी ने उस दौरान उनसे नौ घंटे से ज्यादा समय तक पूछताछ की थी।