आध्यात्म  :: धर्म
धनतेरस पर करें ये टोटके बन जाएंगे सारे काम
धनतेरस के दिन कुछ आसान से टोटके कर आप अपनी जिंदगी में आ रही धन संबंधी परेशानी को हमेशा के लिए दूर कर सकते हैं। कहते हैं कि इस दिन जो भी शुभ कर्म किया जाता है, उसका 13 गुना फल मिलता है। जानते हैं कि आपको क्या करना है। सबसे पहले सायंकाल के बाद तेरह दीपक प्रज्वलित कर तिजोरी में कुबेर का पूजन करें।
करवा चौथ का व्रत जानें शुभ मुहूर्त और इन बातों का रखें ध्यान
कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को सुहागिन स्त्रियों के द्वारा करवा चौथ का व्रत किया जाता है। मान्यता है कि इस दिन यदि सुहागिन स्त्रियों के उपवास रखने से उनके पति की उम्र लंबी होती है और उनका गृहस्थ जीवन सुखद होने लगता है। करवाचौथ का व्रत सुबह 4 बजे से शुरु होता है,जो रात में चंद्रमा को देखने के बाद खोला जाता है।
प्रतिमा विसर्जन पर सुप्रीम कोर्ट नही जाएगी ममता लगाया नया अड़ंगा
कोलकाता हाईकोर्ट ने गुरुवार को मोहर्रम पर दुर्गा मूर्ति विसर्जन पर लगी रोक हटा दी है। इस फैसले को ममता बनर्जी को लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। इसके बाद खबर आई थी कि ममता बनर्जी इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जा सकती है। लेकिन ऐसा ना करते हुए राज्य सरकार ने नया अड़ंगा लगाया है।
इस बार गणेश चतुर्थी पर स्थापित करें केसरिया गणेश
आज पूरे देश में गणेश चतुर्थी का उल्लास है। जगह-जगह पांडाल सज चुके हैं। शुभ मुहूर्त में भगवान गणेश की प्रतिमाएं इन पांडालों के अलावा घर, दुकान औ दफ्तरों में स्थापित की जाएंगी। हम यहां बताएंगे कि गणेशजी की मूर्ति खरीदते समय किन-किन बातों का विशेष ध्यान रखा जाना चाहिए। आप ऐसा करेंगे तो निश्चित ही विघ्नहर्ता आपके जीवन में मंगल लाएंगे।
अगर व्यापार में चाहते हैं मुनाफा तो घर ले आए ये खास चीज
श्रीकृष्ण ने अर्जुन ही नहीं मनुष्य मात्र को यह उपदेश दिया है कि 'कर्म करो और फल की चिंता मत करो'। फल की इच्छा रखते हुए भी कोई काम मत करो। लेकिन अब वर्तनाम युग में सफलता और तरक्की की चाहत सभी को होती है। कई बार हमें अथक मेहनत के बाद भी सफलता हाथ नहीं मिलती।
जब श्रीहरि जाते हैं सोने, तब इन्हें देते हैं ये जिम्मेदारी
चातुर्मास की पहली पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा कहा जाता है। इस दिन शिष्य गुरु की पूजा करते हैं। यह वो समय होता है जब किसान आषाढ़ की खेती बो चुके होते हैं और सावन की बारिश का इंतजार करते हैं। यह दिन महाभारत के रचयिता कृष्ण द्वैपायन व्यास के जन्मदिन के रूप में भी जाना जाता है। वे संस्कृत के प्रकांड विद्वान थे और उन्होंने चारों वेदों की रचना की थी।
उत्तर दिशा में होना चाहिए ऑफिस का मुख्य द्वार
हर इंसान के लिए उसका ऑफिस या दफ्तर बेहद महत्वपूर्ण होता है। यह एक ऐसा स्थान होता है, जहां वह अपनी जिंदगी का एक बड़ा समय व्यतीत करता है। वहीं जिन लोगों का अपना बिजनेस होता है,उनके लिए तो अपना ऑफिस ही सब कुछ होता है। ऐसे में ऑफिस और दफ्तरों में वास्तु को अहम माना गया है। अगर आप भी अपना नया ऑफिस या कार्यालय बनाने जा रहे हैं,तो उसके वास्तु का खास ख्याल रखें।
जब मां की पिंडी को राजकुमारी ले गईं ससुराल
मां जयंती का धाम हिमाचल प्रदेश का कांगड़ा जिला है। यह मंदिर एक प्राचीन किले के सामने है। कहते हैं यह मंदिर द्वापर युग में निर्मित हुआ था। जयंती मां जहां जीत की प्रतीक हैं तो वहीं पाप नाशिनी भी हैं।