आध्यात्म
शनि अमावस्या पर 30 साल बाद बना यह खास योग
18/नवम्बर/2017(ITNN)>>> आज शनिवार के साथ ही अमावस्या भी है। इस शनिश्चरी अमावस्या पर 30 साल बाद शोभन योग बन रहा है। यह अमावस्या पितृ दोष,शनि की साढ़े साती और ढैया निवारण के लिए शुभ है। इसलिए शनि की शांति के लिए मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना की जा रही है। इस दिन खरीदारी का भी विशेष महत्व है। शोभन योग विद्यार्थियों और शिक्षा से जुड़े लोगों के लिए शुभ रहेगा। मध्यप्रदेश के भोपाल में ब्रह्म शक्ति ज्योतिष संस्थान के पंडित जगदीश शर्मा ने बताया कि 31 साल बाद शनि अमावस्या पर यह खास संयोग बन रहा है। 

इस दिन शोभन योग के साथ शनि,बुध और चंद्रमा एक साथ रहेंगे। इससे पहले अमावस्या पर यह योग वर्ष 1987 में बना था। शोभन योग 27 योगों में से एक है। शनिवार के दिन इस योग के होने से तिथि और नक्षत्र का प्रभाव कई गुना अधिक बढ़ गया है। शनि अमावस्या पर शनि देव अपने मूल नक्षत्र विशाखा में रहेंगे, जो शनिदेव को अतिप्रिय है। शनि 26 अक्टूबर से धनु राशि में हैं,जो शनि देव की मूल राशि है। साढ़े साती और ढैया पर शनि का प्रभाव होने से वृश्चिक,धनु, मकर और कन्या राशि वालों के लिए अच्छा अवसर है। इस दिन वह पूजा-अर्चना कर शनि की महादशा को शांत कर सकते हैं।

काली वस्तुओं का दान कर मांगें क्षमा

* भविष्य पुराण के अनुसार शनि देव को शनि अमावस्या अतिप्रिय है। शनि अमावस्या का दिन संकटों के समाधान के लिए बहुत शुभ माना गया है।

* पितृ ऋण से मुक्ति के लिए भी इस दिन का बहुत महत्व है। जो लोग साढ़े साती,शनि की महादशा और अंतर्दशा से पीड़ित हैं वे शनि मंदिर में काले तिल, काले उड़द, लोहे के पात्र और गुण दान करने से मनवांछित फल की प्राप्ति कर सकते हैं।

* शनि अमावस्या की संध्या काल में पीपल वृक्ष के चारों ओर सात बार सूत लपेटें और इस समय शनि के बीज मंत्र का जाप करें। इसके बाद पीपल की जड़ में तेल का दीपक जलाएं और शनि देव से क्षमा मांगें।

* शास्त्रों के अनुसार,शनिश्चरी अमावस्या पर तीर्थ पर स्नान करने से कई गुना पुण्य मिलता है। अमावस्या पर दोपहर 12.48 बजे तक गजकेशरी योग रहेगा। इसके उपरांत बुधादित्य योग के साथ काल सर्पदोष की भी निष्पत्ति हो रही है।

* इस योग के कारण शिक्षा एवं न्याय क्षेत्र में काम करने वाले और विद्यार्थियों के लिए शुभ रहेगा। पं.पवन पारीक ने बताया कि शनि अमावस्या के दिन शनि स्त्रोत का 11 बार पाठ करने से कुंडली में मौजूद अशुभ ग्रह दूर होंगे।

* इस दिन शनि के मंत्र ओम प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः का जाप करना फलदायी होता है। इस दिन पितरों का श्राद्घ भी अवश्य करना चाहिए,शनि अमावस्या पर सुंदरकांड पाठ, हनुमान चालीसा,बजरंग बाण,हनुमान अष्टक का पाठ करने से भी शांति मिलती है।

* आंनद आदि 27 योगों में शोभन नाम का भी एक योग है। यह योग यदि शनिवार के दिन हो तो इससे उस दिन का,तिथि और नक्षत्र का प्रभाव कई गुना अधिक बढ़ जाता है। साथ ही तिथि में अन्य कोई दोष हो तो वह भी इस योग के होने से समाप्त हो जाते हैं।