म. प्र. के जिले
कांग्रेस विधायक की पत्नी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज
छिंदवाड़ा,24/जनवरी/2017(ITNN)>>>>>>> मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले के अमरवाड़ा विधानसभा क्षेत्र के विधायक कमलेश शाह (कांग्रेस) की पत्नी एवं हर्रई नगर परिषद अध्यक्ष माधवी शाह पर 20 लाख रुपये के घोटाले के मामले में धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है. मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले के अमरवाड़ा विधानसभा क्षेत्र के विधायक कमलेश शाह (कांग्रेस) की पत्नी एवं हर्रई नगर परिषद अध्यक्ष माधवी शाह पर 20 लाख रुपये के घोटाले के मामले में धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है. पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी ने बताया,छिंदवाड़ा जिले के हर्रई नगर परिषद में हुए 20 लाख रुपये के घोटाले के मामले में माधवी शाह एवं तीन कर्मचारियों के विरुद्ध कार्रवाई करते हुए धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है. उन्होंने कहा कि इस मामले में जिन तीन कर्मचारियों पर मामला दर्ज किया गया है.

उनमें मुख्य नगर निकाय अधिकारी (सीएमओ) राजेन्द्र सिंह एवं दो कर्मचारी घनश्याम यादव और राहुल यादव शामिल हैं. पुलिस ने बताया कि यहां नगर परिषद के 7.15 लाख रुपए के चेक में हेर-फेर कर उसे 27.15 लाख रुपये करने की शिकायत की गई थी. इस मामले में पुलिस ने जांच में बड़ी गड़बड़ियां पाई थी. उन्होंने कहा कि इस चेक में हेर-फेर करने के बाद इस चेक के जरिए सरकारी खाते से 27.15 लाख रुपये का भुगतान कर दिया गया. पुलिस ने बताया कि जांच के दौरान जिन चेक से फर्जी तरीके से राशि निकाली गई थी,उस पर नगर परिषद अध्यक्ष माधवी शाह के भी हस्ताक्षर हैं. इसके बाद माधवी पर भादंवि की धारा 420,408,409 और 120 बी के तहत मामला दर्ज किया गया. हालांकि,माधवी ने अपने पर लगाये गये इन आरोपों को निराधार बताया है और दावा किया कि उसे न तो चेक पर हस्ताक्षर करने का अधिकार है और न ही इससे पैसा निकालने का.

उन्होंने कहा,मुझे फंसाया जा रहा है. मैं इस मामले में निष्पक्ष जांच चाहती हूं,क्योंकि नगर परिषद अध्यक्ष को वित्तीय अधिकार नहीं हैं. केवल सीएमओ ही सरकारी खाते से राशि का आवंटन कर सकता है. माधवी ने बताया,मैंने इस संबंध में जिले के कलेक्टर से शिकायत भी की है. ईमानदार छवि के अधिकारी माने जाने वाले गौरव तिवारी को हाल ही में कटनी के पुलिस अधीक्षक के पद से हटाकर छिंदवाड़ा का पुलिस अधीक्षक बनाया गया है. कटनी पुलिस अधीक्षक के रूप में अपनी सेवा देते हुए उन्होंने 500 करोड़ रुपये के हवाला कांड का पर्दाफाश किया था,जिसमें कथित रूप से एक मंत्री शामिल है. इस हवाला कांड का खुलासा करने के बाद जांच के दौरान ही उनका तबादला छिंदवाड़ा कर दिया गया था. उनके इस तबादले के लिए कटनी में आम लोगों एवं विपक्षी दलों ने विरोध प्रदर्शन भी किया था.