म. प्र. के जिले  :: छतरपुर
यहां नसबंदी के बाद महिलाओं को बैठने तक की जगह नहीं मिलती
मध्यप्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाए सुधरने का नाम नहीं ले रही हैं,छतरपुर में महिलाओ की नसबंदी ऑपरेशन के बाद उनके साथ अमानवीय व्यवहार किया जा रहा है. दरअसल,जिला अस्पताल की में महिलाओं को नसबंदी ऑपरेशन होने के बाद लेटने तक की जगह नहीं मिल रही है और न ही उनको ऑपरेशन के बाद बाहर लाने के लिए स्ट्रेचर दिया जा रहा है. जिससे वार्ड बॉय ही अपने हाथों से उठाकर उनको गैलरी में तड़पता छोड़ देते हैं.
नहीं करने दे रहे मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा,नाराज होकर दी हिन्दू धर्म छोड़ने की चेतावनी
वाल्मिकी व अहिरवार समाज के लोगों ने उपेक्षा से नाराज होकर राज्यपाल के नाम तहसील में ज्ञापन देकर हिन्दू धर्म छोड़ने की चेतावनी दी है। इन लोगों का कहना है कि गांव के पंडित और पुरोहित उनके द्वारा बनाए गए देवी मंदिर में न तो खुद प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा कर रहे हैं और न ही बाहर से आने पंडितों को करने दे रहे हैं।
छतरपुर जिला अस्पताल में पांच महीने में 140 बच्चों की मौत
छतरपुर के जिला अस्पताल में एसएनसीयू में पिछले 5 महीनो में अब तक भर्ती होने वाले 140 बच्चों की मौत का मामला सामने आया है. बच्चों की मौत की वजह ज्यादातर बच्चों के कुपोषित होने और जिला अस्पताल में बुनियादी सुविधाओं का अभाव है. जिला अस्पताल में एसएनसीयू में मार्च से जुलाई तक 1092 बच्चे एसएनसीयू में भर्ती हुए थे.
बड़ी मात्रा में प्याज सड़ने से फैली दुर्गंध
छतरपुर के लवकुशनगर में प्रशासन की लापरवाही के चलते 80 ट्रक प्याज सड़ने से उसकी फैली दुर्गंध की वजह से लोग बीमार होने को मजबूर हैं. यह प्याज दो रुपये के दाम पर मध्यप्रदेश सरकार ने गरीबों को बेंचने के लिए सभी जिलों में भेजी थी. इस प्याज को लापरवाही के चलते गोदामों में नही रखवाया गया और न ही इसका बेहतर प्रबंधन करके शासकीय मूल्यों की दुकानों में भेजा गया.
MP में दो और किसानों ने की खुदकुशी,आंदोलन के बाद से अब तक 25 किसानों ने दी जान
मध्य प्रदेश में कर्ज के बोझ से दबे किसान लगातार अपनी जान दे रहे हैं. आज टीकमगढ़ और छतरपुर में दो किसानों ने खुदकुशी कर ली है. मध्य प्रदेश में किसान आंदोलन के बाद अभी तक कुल 25 किसान अपनी जान दे चुके हैं.
अपराधियों की धरपकड़ से पहले पूजे जाते हैं राम
मध्य प्रदेश के छतरपुर जिला स्थित ईशा नगर पुलिस थाने की कार्रवाई भगवान राम की पूजा के बाद शुरू होती है. कहा जाता है कि पूजा पिछले पच्चीस साल से लगातार हो रही है. अपराधी हो या फिर पुलिसकर्मी सबको पूजा में शामिल होना पड़ता है.
छतरपुर में स्कूल बस पलटी 20 से ज्यादा बच्चे घायल
छात्रों से भरी एक स्कूल बस शनिवार सुबह अचानक पलट गई। हादसे में 20 से ज्यादा बच्चे घायल हो गए,जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। घायलों में दो बच्चों की हालत गंभीर बताई जा रही है। जानकारी के मुताबिक हादसा छतरपुर जिला मुख्यालय से 80 किमी दूर हुआ है,केशव स्कूल की बस चंदला से लवकुश नगर जा रही थी।