साहित्य-संस्कृति  :: कविता
कहते-कहते
गूंगी हो गयी आज कुछ ज़बान कहते-कहते, हिचकिचा गया मैं खुद को मुसलमान कहते कहते.