बिहार के जिले  :: समस्तीपुर
समस्तीपुर सदर अस्पताल की व्यवस्था बेहाल
सरकार बदली,सरकार में मंत्री के चेहरे बदले पर जो नहीं बदला वो है व्यवस्था. स्वास्थ्य विभाग व्यवस्था को चका चक करने के बहुत से दावे कर चुका है पर अस्पताल में इसका कोई असर नहीं दिखता. हम बात कर रहे हैं समस्तीपुर सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड की जहां महिलाएं जमीन पर बेसुध पड़ी हैं और डॉक्टर के आने का इंतज़ार कर रही हैं.
बिहार में लेफ्ट पार्टी के नेता की दिनदहाड़े गोली मार कर हत्या
बिहार में गुरूवार को दिनदहाड़े लेफ्ट पार्टी के एक नेता की गोली मार कर हत्या कर दी गई. घटना बेगूसराय जिले की है जहां के बछवाड़ा थाना क्षेत्र के कादराबाद गांव में अहले सुबह बाइक सवार अज्ञात अपराधियों ने इस वारदात को अंजाम दिया. मृतक सीपीएम के नेता थे. जानकारी के मुताबिक रामसागर पासवान को अपराधियों ने घर से बुला कर इस वारदात को अंजाम दिया.
बेगूसराय में बीजेपी नेता की दिनदहाड़े गोली मार कर हत्या
बिहार में अपराधियों ने रविवार को भाजापा के नेता की दिनदहाड़े गोली मार कर हत्या कर दी. घटना बेगूसराय के डंडारी थाना क्षेत्र के सिसौनी गांव की है जहां बेखौफ अपराधियों ने बीजेपी नेता को निशाना बनाते हुए दिनदहाड़े फायरिंग की. बताया जाता है कि बीजेपी नेता हेमचंद्र पासवान अपने ट्रैक्टर से कहीं जा रहे थे इसी दौरान पीरनगर के पास उनकी अपराधियों से किसी बात को लेकर अनबन हो गई.
23 साल पहले छात्रों के लिये बना हॉस्टल,पहले रहा साहब का दफ्तर और अब चल रहा थाना
बिहार में अनुसूचित जाति-जनजाति के नाम पर राजनीति तो खूब होती है लेकिन जब बात इनके कल्याण की आती है तो सच्चाई और वास्तिवकता सामने आती है. मामला समस्तीपुर का है जहां एक दो नहीं बल्कि पूरे 23 साल से एक सरकारी छात्रावास में छात्रों की बजाय कभी पुलिस वाले तो कभी सरकारी बाबू रह रहे हैं जबकि इनके असली हकदार यानि गरीब और लाचार छात्र किराये के मकान में रहने को विवश हैं. समस्तीपुर के पटोरी में गुलाब बबुना स्कूल के छात्रावास पर छात्रों की जगह फिलहाल पुलिस का ही कब्ज़ा है.
नीतीश परिस्थितियों के सीएम नहीं बल्कि 34 कांडों के मुजरिम
बेगूसराय के सांसद भोला सिंह ने बिहार में बढ़ते अपराध को लेकर एक बार फिर से नीतीश कुमार को आड़े हाथों लिया है. भोला ने कहा कि नीतीश कुमार परिस्थिति विशेष के मुख्यमंत्री नहीं हैं बल्कि वो 34 से अधिक कांडो के मुजरिम है. सांसद ने कहा कि जो लोग उन्हें यानि नीतीश को परिस्थिति विशेष का मुख्यमंत्री कहते हैं वो गलत है. उन्होंने आरोप लगाया की महागठबंधन विकास के लिए नहीं,जानमाल की सुरक्षा के लिए नहीं, महिलाओं की आबरू की हिफाजत के लिए नहीं बल्कि बिहार मे जंगलराज लाने के लिए ही बना था.