बिहार के जिले
भीमा-कोरेगांव घटना के विरोध में गया में विरोध मार्च
गया,09/जनवरी/2018(ITNN)>>> महाराष्ट्र के भीमा-कोरेगांव में हुई 1 जनवरी को हुई घटना के विरोध में सोमवार को गया के गांधी मैदान से समाहरणालय तक विरोध मार्च निकाला गया. इस रैली में दलित वर्ग के लोगों ने 200 साल पुरानी वेश-भूषा यानी गले में लबनी और पीठ पर छाड़ू लेकर प्रदर्शन किया. दलित वर्ग के कई कार्यकर्ताओं ने हिन्दू धर्म के बजाय अंबेडकर के संविधान को ही अपना धार्मिक ग्रंथ मानने की शपथ ली. दलित-मुस्लिम एकता मंच के बैनर तले निकाले गये इस विरोध मार्च को लेकर जिला पुलिस और इंटेलिजेंस की टीम भी सतर्क दिखी. 

200 साल पुरानी वेशभूषा में निकाले गये विरोध मार्च शहरवासियों के बीच चर्चा का विषय बना रहा. गौरतलब है कि 200 साल पहले के मामले को लेकर दलित समुदाय हर साल जश्न मनाती है और इसी जश्न के दौरान इस साल 1 जनवरी 2018 को दो संगठनों के बीच विवाद हो गया था जिसने हिंसक रूप ले लिया था और जिसके विरोध में पूरे देश में दलित समुदाय विरोध प्रदर्शन कर रहा है. इन प्रदर्शनकारियों ने पीएम नरेन्द्र मोदी,भाजपा एवं आरएसएस के खिलाफ नारे भी लगाये.